Mere Dost... | Friendship Shayari

Mere Dost wo mera nasha....


Wo Achchha Hai To Achchha Hai, Wo Bura Hai To Bhi Achchha Hai,,
Dosti Ke Mijaaz Mein, Yaaron Ke Aib Nahin Dekhe Jaate.

वो अच्छा है तो अच्छा है,वो बुरा है तो भी अच्छा है,
दोस्ती के मिजाज़ में, यारों के ऐब नहीं देखे जाते।




Zindagi Har Pal Kuchh Khaas Nahi Hoti,
Phoolo Ki Khushboo Hamesha Paas Nahi Hoti,
Milna Humari Takdeer Mein Tha Varna,
Itni Pyari Dosti ittefaaq Nahi Hoti.

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती,
फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती,
मिलना हमारी तक़दीर में था वरना,
इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।




Ek Dost Ne Dost Se Kaha
Friendship Ka Matalab Kya Hota Hai
Dost Ne Muskaraakar Kaha
Paagal Ek Friend He To Hai
Jisaka Koee Matalab Nahin Hota
Aur Jahaan Matalab Ho
Vahaan Dost Nahin Hota

एक दोस्त ने दोस्त से कहा
फ्रेंडशिप का मतलब क्या होता है
दोस्त ने मुस्कराकर कहा
पागल एक दोस्त हे तो है
जिसका कोई मतलब नहीं होता
और जहाँ मतलब हो
वहां दोस्त नहीं होता


Dosti Mein Dost, Dost Ka Khuda Hota Hai,
Mahsoos Tab Hota Hai Jab Wo Juda Hota Hai.

दोस्ती में दोस्त, दोस्त का ख़ुदा होता है,
महसूस तब होता है जब वो जुदा होता है|





THANK YOU