Barish ke bunde...


Barish Mein Aaj Bheeg Jaane Do.
Bundo Ko Aaj Baras Jane Do.
Na Roko Yu Khud Ko Aaj,
Bheeg Jane Do Is Dil Ko Aaj.

बारिश में आज भीग जाने दो,
बूंदों को आज बरस जाने दो,
न रोको यूँ खुद को आज,
भीग जाने दो इस दिल को आज।





Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को।






Kash Koi Is Tarah Bhi Wakif Ho
Meri Zindagi Se,
Ki Main Barish Me Bhi Roun Aur
Wo Mere Aansu Parh Le.

काश कोई इस तरह भी वाकिफ हो
मेरी जिंदगी से,
कि मैं बारिश में भी रोऊँ और
वो मेरे आँसू पढ़ ले।



THANK YOU